IB अलर्ट, 15 अगस्त को लालकिले पर खालिस्तान का झंडा फहराने की साजिश
| Agency - Aug 13 2020 5:47PM

नई दिल्‍ली। स्‍वतंत्रता दिवस यानी कि 15 अगस्‍त को लेकर आईबी ने बड़ा अलर्ट जारी किया है। आईबी ने अपने अलर्ट में कहा है कि खालिस्तानी समर्थक संगठन Sikh for Justice के आकाओं में से एक गुरुवतपंत सिंह पन्नू ने 14, 15 और 16 अगस्त को लाल किले पर खालिस्तान का झंडा फहराने वाले सिख को सवा लाख डालर देने की घोषणा की है। इस ऐलान के बाद से लाल किले की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

इस सबंध में पन्‍नू ने एक वीडियो जारी किया है। इसी वीडियो में उसने खालिस्तानी झंडे को लाल किले पर लगाने का ऐलान किया है। उसने कहा है कि जो भी सिख लाल किले पर खालिस्तान का झंड़ा लगाएगा उसे सवा लाख डॉलर दिया जाएगा। बता दें कि खालिस्तान समर्थकों को पाकिस्तानी ISI द्वारा कई तरह की मदद पहुंचाई जाती है। यही नहीं गुरुवंतपंत पन्नू वही शख्स है जो दुनियाभर में रेफरेंडम 2020 चला रहा है।

आपको बता दें कि रेफरेंडम 2020 को लेकर लगातार दिल्ली, पंजाब और हरियाणा में लोगों को गुरुवतपंत सिंह पन्नू का ऑटोमेटिक कॉल्स आ रहा है, जिसकी जांच एनआईए कर रही है। इंटेलिजेंस ब्यूरो के इनपुट के बाद सुरक्षा पहले से अधिक कड़ी कर दी गई है। लाल किले के पास अगर कोई भी संदिग्ध नजर आता है तो उसे रोककर तलाशी ली जा रही है। हाल ही में भारत ने खालिस्तान समर्थित सिख फॉर जस्टिस संगठन पर प्रतिबंध लगा दिया है।

यह संगठन सिखों के लिए अलग देश की मांग करता है। गृह मंत्रालय ने अलगाववाद एजेंडे को बढ़ावा देने पर इस संगठन को बैन कर दिया है। अप्रैल 2019 में नरेंद्र मोदी सरकार ने अनुरोध पर पाकिस्तान भी इस संगठन पर बैन लगा चुका है। ऑल इंडिया ऐंटी टेररिस्ट फ्रंड के चेयरमैन मनिंदरजीत सिंह बिट्टी ने कहा, 'रेफरेंडम 2020 पाकिस्तान की आईएसआई का एक अजेंडा भर है।

आईएसआई ही इसके लिए फंडिंग भी कर रही है। दूसरे देशों में बसे सिख अपने धर्म के काफी करीब हैं और उन्होंने दूसरे देशों में भी धर्म का प्रचार किया है। अगर कुछ लोग खालिस्तान के समर्थन में बोलते भी हैं तो इसका मतलब यह नहीं है कि पूरा सिख समुदाय खालिस्तान का समर्थक है।' अमरीका में रहने वाला गैरकानूनी संस्था सिख फॉर जस्टिस का प्रमुख सदस्य है गुरपतवंत सिंह पन्नु, जिसे 1 जुलाई को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आतंकवादी घोषित किया है।

पन्नू सहित कुल 8 लोग आतंकवादी की लिस्ट में रखे गए हैं। ये सीमा पार और विदेशी धरती से आतंकवाद की विभिन्न घटनाओं में शामिल हैं। ये अपनी राष्ट्र विरोधी गतिविधियों और खालिस्तान मूवमेंट में शामिल होकर तथा उसके समर्थन के जरिये पंजाब में आतंकवाद को पुनर्जीवित करने की कोशिश कर अपने घृणित कृत्यों से लगातार देश को अस्थिर करने का प्रयास कर चुके हैं।



Browse By Tags



Other News