12 दिसम्बर को आयोजित होने वाले राष्ट्रीय लोक अदालत की सफलता हेतु हुई बैठक 
| - Rainbow News Network - Nov 23 2020 5:03PM

अम्बेडकरनगर। आज दिनांक 23.11.2020 को 04.00 बजे से माह दिसम्बर 2020 में दिनांक 12.12.2020 को प्रस्तावित राष्ट्रीय लोक अदालत की सफलता हेतु माननीय जनपद न्यायाधीश महोदय के निर्देशानुसार, श्रीमती पूजा विश्वकर्मा, अपर जिला जज, पाक्सो, द्वितीय विशेष न्यायाधीश, एनडीपीएस एक्ट/नोडल अधिकारी, राष्ट्रीय लोक अदालत, अम्बेडकरनगर की अध्यक्षता में न्यायिक मजिस्ट्रेट एवं सिविल जज के साथ बैठक का आयोजन किया गया।

इस बैठक में सुश्री प्रीती भूषण, सिविल जज (जू0डि0)/जे0एम0 टाण्डा, श्री विराटमणि त्रिपाठी, न्यायिक मजिस्ट्रेट, श्री अजय कुमार मिश्रा, सिविल जज (जू0डि0) त्वरित, सुश्री सौम्या द्विवेदी, अपर सिविल जज (जू0डि0) प्रथम, श्रीमती अम्बुज मिश्रा, अपर सिविल जज (जू0डि0) तृतीय, सुश्री अलका सिंह, अपर सिविल जज (जू0डि0) चतुर्थ, श्री अमरनाथ, अपर सिविल जज (जू0डि0) पंचम, सुश्री कामाक्षी सागर, अपर सिविल जज (जू0डि0) षष्ठम्, श्री अशोक कुमार अपर सिविल जज (जू0डि0) त्वरित, उपस्थित आये।

सिविल जज एवं मजिस्ट्रेट न्यायालयों, द्वारा प्रेषित आकड़ों के अनुसार मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वारा 741 वाद, सिविल जज (जू0डि0) द्वारा 607 वाद, सिविल जज (जू0डि0)/जे0एम0 टाण्डा द्वारा 215 वाद, न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वारा 109 वाद, सिविल जज, (जू0डि0), त्वरित, द्वारा 556 वाद, अपर सिविल जज (जू0डि0) प्रथम, द्वारा 24 वाद, अपर सिविल जज (जू0डि0) द्वितीय, द्वारा 26 वाद, अपर सिविल जज (जू0डि0) चतुर्थ, द्वारा 01 वाद, अपर सिविल जज (जू0डि0) पंचम, द्वारा 04 वाद तथा अपर सिविल जज (जू0डि0) त्वरित, द्वारा 06 वाद उक्त राष्ट्रीय लोक अदालत हेतु संदर्भित किया जा चुका है। प्रस्तुत विवरण सहित सभी न्यायालयों द्वारा अब तक 2512 वाद तथा इसके अतिरिक्त प्री-लिटिगेशन वाद के रूप में बैंको द्वारा 6576 वाद सहित कुल 9088 वाद अभी तक उक्त राष्ट्रीय लोक अदालत के लिए संदर्भित किये जा चुके है।

अपर जिला जज, पाक्सो, द्वितीय विशेष न्यायाधीश, एनडीपीएस एक्ट/नोडल अधिकारी, राष्ट्रीय लोक अदालत, द्वारा सभी उपस्थित न्यायिक अधिकारीगण को निर्देशित किया गया कि इस राष्ट्रीय लोक अदालत को सफल बनाने के लिए अधिक से अधिक फौजदारी एवं दीवानी से संबन्धित वादो/प्रकरणों को उक्त राष्ट्रीय लोक अदालत में नियत कर निस्तारित करें। जिससे आने वाली राष्ट्रीय लोक अदालत को सफल बनाया जा सकेे।

मा0 महोदय द्वारा उपस्थित अधिकारीगण को निर्देशित किया कि उक्त राष्ट्रीय लोक अदालत में अधिक से अधिक वादों को नियत करके सम्बन्धित पक्षों को नोटिस/सम्मन भेजना सुनिश्चित करायें तथा नोटिस/सम्मन के तामीला हेतु स्वयं ही मॉनिटरिंग करें कि नोटिस/सम्मन ठीक ढंग से तामीला हो रही है कि नहीं। सभी अधिकारियों द्वारा निर्देशानुसार कार्य करने एवं लोक अदालत की सफलता हेतु अपनी प्रतिबद्धता व्यक्त की गई।



Browse By Tags



Other News