गौरी भाऊ के तौर पर पिछड़ा वर्ग को मिला नया स्वर
| -RN. Feature Desk - Sep 5 2021 3:23AM

- हेमेन्द्र क्षीरसागर

कृषकों, पिछड़ों, मजदूरों और आमजनों की समस्याओं से अच्छी तरह वाकिफ आम आदमी की तरह सहज, सरल-शैली, व्यक्तित्व और जन-रागात्मकता से युक्त ठेठ देशी अंदाज में अपनी बात रखने वाले मध्यप्रदेश के पूर्व सांसद, केबिनेट मंत्री व बालाघाट विधायक गौरीशंकर बिसेन का बचपन से ही गांव की माटी व शहरों की गलियों से गहरा नाता रहा। शोषित, वंचित और पीड़ितों को ठगते निरंकुश-तंत्र के खिलाफ अपनाते बगावती तेवर ने ही अंतस में विद्यमान नेतृत्व क्षमता को जगाने में मुख्य भूमिका निभाई। सही मायनों में ये छोटे-छोटे लोगों के बडे-बडे कामों को अमलीजामा पहनाने के कारण ही आम लोगों के खास नेता हैं। अपने धुन के पक्के जन-जन के गौरी भाऊ ने सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास अर्जित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। कालजयी, अटल पथ के फक्कड़ पथिक गौरी भाऊ राजनीतिक अस्पृश्यता के दौर में सर्व समाज और सर्वदल में सर्वग्राही बने हुए हैं।

फलस्वरूप, साफगोई नीति, नैतिकता और शुचिता की राजनीति के अजातशत्रु गौरी भाऊ को वर्ष 2008 में प्रदेश के मुख्यमत्री शिवराज सिंह चौहान ने हर घर नल, हर घर जल और ब्याज जीरो, किसान हीरो की परणिति के बोध से लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी के साथ-साथ सहकारिता विभाग के मंत्री का दायित्व सौंपा था। इस जवाबदेही को जनहित में सफलता पूर्वक निभाने के उपरांत आप 2013 में कृषक कल्याण व कृषि विकास मंत्री के तौर पर खेती को लाभ का धंधा बनाने के अभिप्राय जी-जान से जुटे। 

परिलच्छित, देश के राष्ट्रपति ने प्रदेश को पांचवी बार ‘ कृषि कर्मण अवार्ड ‘ से सम्मानित किया, वहीं उच्चतम कृषि विकास दर के लिए भी प्रदेश को नवाजा गया। भांति विगत वर्षो में कृषि क्षेत्र में उल्लेखनीय उपलब्धियों के लिए सुविख्यात विशेषज्ञों की अनुशंसा पर मध्यप्रदेश को सर्वश्रेष्ठ कृषि राज्य श्रेणी में ‘ एग्रीकल्चर लीडरशीप एवार्ड ‘ मिला। अभिभूत देश में प्रदेश की कृषि की विकास दर क्षितिज पर आसिन होना श्री बिसेन के लक्ष्यभेदी अभियान का प्रतिफल हैं।

स्तुत्य, गौरी भाऊ की कालजयी कार्य कुशलता, स्वीकारिता और नेतृत्व शैली का उपयोग पिछड़ा वर्ग के कल्याण के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने लिया। जो अपने आप में ऐतिहासिक और काबिले गौर है इस जनहितैषी निर्णय की जितनी भी तारीफ की जाए उतनी ही कम होगी। निस्संदेह श्री बिसेन को दी गई जिम्मेदारी से पिछड़ा वर्ग को नया स्वर मिलेगा। जिसकी आज सारे देश में निहायत ज़रूरत महसूस की जा रही है। अद्वितीय श्री बिसेन पिछड़ा वर्ग के मर्म को भलिभांति जानते और समझते हैं। आशा ही नहीं पूरी उम्मीद है कि यह इस दायित्व को पूर्ण निष्ठा और लगन के साथ निर्वहन करेंगे। जो इनकी बेजोड़ कार्यक्षेमता और दक्षता से बखूबी झलकता है। अभिभूत, श्री बिसेन के इस कार्यकाल में पिछड़ा वर्ग को सच्चा न्याय और अधिकार मिलेगा।

 लिहाजा, 01 जनवरी 1952 को बालाघाट जिले के ग्राम लेंडेझरी में जन्में मध्यमवर्गीय किसान चतुर्भुज बिसेन के सुपुत्र गौरीशंकर बिसेन ने एमएससी की उपाधि विशेष श्रेणी में हासिल की। शासकीय सेवा को न चुनते हुए, जनसेवा को अपना पेथ्य माना। चैतन्य, 1970 के दशक में उत्पन्न राजनीतिक हालातों में जनसंघ और बाबू जयप्रकाश नारायण के विचारों से प्रभावित होकर समग्र क्रांति जनांदोलन में अपनी शक्ति को सत्ता पक्ष की निरंकुशता के खिलाफ प्रदर्शन में झोंक दिया। समकालिन जनप्रिय इस युवा संघर्षशील नेता ने 1977 में सम्मयक पं. नंदकिशोर शर्मा जैसे प्रदेश के दिग्गज, प्रभावशाली कांग्रेसी नेता को अपने नेतृत्व का एहसास कराया। जब प्रदेश में यह आम धारणा रही कि पं. शर्मा को चुनौती देना किसी के बूते की बात नहीं हैं। उस विधानसभा चुनाव में हालांकि श्री बिसेन हार गए, लेकिन 1985 के विधानसभा चुनाव में श्रीमती इंदिरा गांधी की हत्या से कांग्रेस के प्रति उत्पन्न सहानुभूति लहर के बावजूद भी वे कांग्रेस के गढ बालाघाट से पहली बार विधायक निर्वाचित हुए।

सिलसिलेवार, गौरी भाऊ अपने कुशल उत्तरदायित्व निर्वहन, उत्कृष्ट कार्य व मिलनसारिता से मान्य नेतृत्व को प्राप्त करते हुए लगातार फतेह हासिल की। आप सन् 1985, 1990, 1993, 2003, 2008, 2013 और 2018 में बालाघाट विधानसभा से विधायक चुने गए। 1998 एवं 2004 में आपने बालाघाट लोकसभा क्षेत्र का सर्वस्पर्शी, अद्वितीय प्रतिनिधित्व किया। अगुवाई में बालाघाट जिले ही नहीं अपितु सारे सुबे में जन कल्याण और विकास मूलक आयामों की बयार बहीं, जिसकी गाथा अगाथ हैं। वहीं मध्यप्रदेश भाजपा किसान मोर्चा प्रदेशाध्यक्ष और भाजपा के दो बार प्रदेश उपाध्यक्ष के दायित्व को निभाते हुए जनता-जर्नादन की समस्याओं को प्रदेश व राष्ट्रीय स्तर पर उठाकर अपनी अद्भूत संगठन क्षमता का विलक्षण परिचय भी दिया। पदचिन्हों पर आरूढ़ आपकी धर्मपत्नी श्रीमती रेखा बिसेन ने दो बार जिला पंचायत बालाघाट के अध्यक्ष के दायित्व को अतुलनीय निभाया। वही पथगामी पुत्री मौसम हरिनखेरे समाज सेवा और जन कल्याण का ध्येय लिए अविरल है। अभिष्ठ, प्रदेश के चतुर्दिक विकास के अभिप्राय गौरीशंकर बिसेन सांगोपांग भाव से गत पांच दशक से प्रयासरत हैं। ऐसे मर्मस्पर्शी, प्रयोगधर्मी और जमीनी कर्मयोगी अजातशत्रु को अति महत्ती मध्यप्रदेश पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग का अध्यक्ष नियुक्त होने पर अशेष शुभकामनाएं…!

 

        



Browse By Tags



Other News