जनरल तुझे सलाम!
| -RN. Feature Desk - Dec 14 2021 4:41AM

पिछले दिनों एक हेलिकाप्टर दुर्घटना में भारतीय सेना के जनरल विविन रावत और उनकी पत्नी श्रीमती मधुलिका रावत समेत तेरह जाँबाज सौनिकों/अधिकारियों का असमय निधन हुआ। समूचे देश में इस दर्दनाक घटना से शोक की लहर फैल गई। जनरल विपिन रावत एक वीर सेनानी थे। उनका जन्म उत्तराखंड के पौरी, गढ़वाल में हुआ था। उनकी शुरुआती पढ़ाई देहरादून में, कैंब्रियन हॉल स्कूल, शिमला में सैंट एडवर्ड स्कूल और भारतीय सैन्य अकादमी देहरादून में हुई थी।

उन्होंने भारतीय सैन्य अकादमी से स्नातक उपाधि हासिल की। उन्हें आई एमए देहरादून में “शोर्ड ऑफ़ ऑनर्स ” से सम्मानित किया गया था। देवी अहिल्या विश्वविद्यालय से रक्षा एवं प्रबन्ध अध्ययन में एम फिल की डिग्री और मद्रास विश्वविद्यालय से स्ट्रैटेजिक और डिफेंस स्टडीज में भी एम फिल की डिग्री हासिल की। इसके अलावा जनरल  विपिन रावत ने चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय से  साल 2011 में ‘सैन्य मीडिया अध्ययन’ में पीएचडी किया था।जनरल रावत फौजी परिवार से थे। उनके पिता लेफ्टिनेंट जनरल लक्ष्मण सिंह रावत उप-सेना प्रमुख रहे थे।

एक इंटरव्यू में जब उनसे पूछा गया कि उत्तराखंड की भूमि में ऐसा क्या है, जो देश को इतने वीर देती है, तो उन्होंने कहा था, 'उत्तराखंड की भूमि देवभूमि कहलाई जाती है। वह इसलिए कहलाई जाती है कि वहां की जो मिट्टी और पानी है, वह देवताओं के वास करने के इलाके से बहता है। इसलिए वहां की मिट्टी में जन्मे और जिसने वह पानी पिया,उसमें यह हौसला शायद अपने आप आ जाता है। लेकिन मैं यह नहीं कहना चाहता कि बाकी देशवासी किसी तरह से उत्तराखंड के देशवासियों से कमजोर हैं। सब देशवासी मजबूत हैं। लेकिन उत्तराखंड की मिट्टी और पानी में कुछ खास है।' 

कुछ पूर्व बिटिया अपर्णा के पति कैप्टन प्रशांत हँडू की पोस्टिंग 'डिफेंस एडवाइजर' के रूप में मालदीव में हुई थी।तब एक बार जनरल विपिन रावत अपनी सरकारी यात्रा पर जब मालदीव गए तो प्रशान्त और अपर्णा ने हवाई अड्डे पर जनरल विपिन रावत और श्रीमती मधुलिका रावत का स्वागत किया था। चित्र उस समय के हैं। बिटिया अपर्णा ने राजनीतिशास्त्र में राजस्थान विश्वविद्यालय से एमफिल किया है। कुछेक वर्षों तक अलवर के बाबू शोभराम कॉलेज में पढ़ाया भी है।संप्रति मुंबई में है।    

-डॉ० शिबन कृष्ण रैणा



Browse By Tags



Other News