Rainbownews :: कथन -
*  अन्धविश्वास निर्मूलन क़ानून का निर्माण ही इसका संवैधानिक समाधान है!     *  300 रुपये के लिए राजपूत से दलित बन गए बुजुर्ग!     *  गे होना कैरक्टर सर्टिफिकेट नहीं है     *  शौचालय के लिए 11 साल की बच्ची ने छोड़ा खाना     *  अम्बेडकरनगर : भीटी तहसील के कई गाँवों में जंगली सूअरों का आतंक     *  ‘रिस्क जोन’ में बनारस     *  नेपाल-भारत में रविवार को फिर भूकंप के झटके     *  किसानों को चाहिए... :-जयंत साहू     *  नेपाली फिल्मों के सुपर स्टार ने प्राकृतिक आपदा पर दुख जताया     *  गाड्स आफ करप्शन : प्रोमिला शंकर की किताब     *  मित्रता करो तो कृष्ण-सुदामा जैसी : संतोष जी महराज     *  तुम डरा सकते नहीं हमको सजा के नाम पर...रूख्सार बलरामपुरी    *  अयोध्या तिवारी बनाये गये टीएसआई     *  आशुतोष कब तक रोएंगे ‘आप’    
Rainbow News
Tuesday 28th of April 2015 02:09 AM

बस स्टेण्ड पर पार्किंग की व्यवस्था होने से यात्रियों को हो रही सुविधा

Update on : 29 August, 2013, 5:13

शहर के ज्यादा भीड़ वाले इलाकों में होनी चाहिए स्थाई पार्किंग 

सिरोही। समाचार। दिलीप कुमार मीणा। शहर के केन्द्रीय बस स्टेण्ड में पार्किंग होने से यात्रियों के लिए आवागमन में आसानी एवं टू व्हीलर वाहनों की सुरक्षा हो रही है। जहां पर अव्यवस्थित वाहन खड़े होते थे, वे आज पार्किंग होने से व्यवस्थित खड़े हो रहे है। जिससे रोडवेज प्रशासन व आमजन को फायदा हो रहा है| पार्किंग यहां पर होने से बस स्टेण्ड का विकास व सुरक्षा होरही है। रोडवेज प्रशासन से अनुबन्धित पार्किंग ठेकेदार रामलाल माली का कहना है कि एक साल पहले यहां पर पार्किंग व्यवस्था  नही थी ,तब बस स्टेण्ड के बाहर की जगह पर गंदगी थी। पर अब बस स्टेंड के बाहर की जगह देख लिही हो तो अलग अंदाज में ही नजर आयेगी व अति सुन्दर दिखेगी। पहले तो यात्री अपनी मर्जी के अनुसार बस स्टेंड में खी पर भी वाहन  खड़े करके चले जाते थे। जिससे बस स्टेंड का आवागमन मार्ग में यात्रियों व बस में बाधा आती थी। परन्तु अब ठेका लेने  से आसानी हो रही है।पार्किंग होने से सरकारी बसों की भी सुरक्षा होती है। यात्रियों के वाहनों की 24 घन्टे निगरानी रखी जारही है । शहर में ज्यादा भीड़ वाले इलाकों में स्थाई पार्किंग होनी चाहिए। भीड़-भाड वाले इलाकों में पार्किंग होंने से बाजारों में आने-जाने के लिये आसानी होती है और वाहनों की सुरक्षा होती है। पार्किंग का ठेका देने या विज्ञप्ति जारी होने से नगर निकाय को भी राजस्व का फायदा होता है। बेतरीब ढंग से आम सडकों के बीच खड़े होते वाहनों के खिलाफ जुर्माना राशि लेनी चाहिए। बाजारों में सड़क के बीचों बिच व अव्यवस्थित तरीके से खड़े वाहनों पर प्रशासन को जुर्माना लेना या चालान काटना चाहिए। ताकि सड़क अवरुद्द न हो एवं बाजारों में आवागमन की समस्या दूर हो सकती है।