Rainbownews :: समाचार -
*  एण्ड्रॉयड/स्मार्ट फोन या ‘बेगिंग बाउल’ (भिक्षा-पात्र)     *  उत्तर प्रदेश कलाकार एसोसिएशन ने जारी किया दिशा निर्देश     *  राजनीति का अपराधीकरण एक खतरनाक संकेत     *  आर्या म्यूजिक ने लॉन्च किया मल्टी स्टारर भोजपुरी फ़िल्म ’हमसे बढ़कर कौन’ का म्यूजिक     *  दरोगा भर्ती याचिका : 10-20 लाख घूस के आरोप     *  पेड़ काटने से इंकार किया तो उस्तरा मार किया घायल     *  क्रूर ग्रहों की वंदना पहले और सौम्य ग्रहों की बाद में     *  तारकेश कुमार ओझा को श्रीमती लीलावती स्मृति सम्मान...!!​     *  एक मुहिम पचनद की पवित्रता को बचाने की     *  गली के कुत्ते     *  भारत में मीडिया में ब्राह्मणों और बनियों का ही वर्चस्व है : अरुंधति रॉय     *  वर्ष 2014 का दादा साहेब फाल्के शशि कपूर को     *  भूमिहार ब्राम्हण महासभा बनाएगा महासंघ     *  रीता जोशी केस के गिरफ्तार निर्दोष लड़ेंगे न्याय की लड़ाई    
Rainbow News
Friday 27th of March 2015 03:54 AM

बस स्टेण्ड पर पार्किंग की व्यवस्था होने से यात्रियों को हो रही सुविधा

Update on : 29 August, 2013, 5:13

शहर के ज्यादा भीड़ वाले इलाकों में होनी चाहिए स्थाई पार्किंग 

सिरोही। समाचार। दिलीप कुमार मीणा। शहर के केन्द्रीय बस स्टेण्ड में पार्किंग होने से यात्रियों के लिए आवागमन में आसानी एवं टू व्हीलर वाहनों की सुरक्षा हो रही है। जहां पर अव्यवस्थित वाहन खड़े होते थे, वे आज पार्किंग होने से व्यवस्थित खड़े हो रहे है। जिससे रोडवेज प्रशासन व आमजन को फायदा हो रहा है| पार्किंग यहां पर होने से बस स्टेण्ड का विकास व सुरक्षा होरही है। रोडवेज प्रशासन से अनुबन्धित पार्किंग ठेकेदार रामलाल माली का कहना है कि एक साल पहले यहां पर पार्किंग व्यवस्था  नही थी ,तब बस स्टेण्ड के बाहर की जगह पर गंदगी थी। पर अब बस स्टेंड के बाहर की जगह देख लिही हो तो अलग अंदाज में ही नजर आयेगी व अति सुन्दर दिखेगी। पहले तो यात्री अपनी मर्जी के अनुसार बस स्टेंड में खी पर भी वाहन  खड़े करके चले जाते थे। जिससे बस स्टेंड का आवागमन मार्ग में यात्रियों व बस में बाधा आती थी। परन्तु अब ठेका लेने  से आसानी हो रही है।पार्किंग होने से सरकारी बसों की भी सुरक्षा होती है। यात्रियों के वाहनों की 24 घन्टे निगरानी रखी जारही है । शहर में ज्यादा भीड़ वाले इलाकों में स्थाई पार्किंग होनी चाहिए। भीड़-भाड वाले इलाकों में पार्किंग होंने से बाजारों में आने-जाने के लिये आसानी होती है और वाहनों की सुरक्षा होती है। पार्किंग का ठेका देने या विज्ञप्ति जारी होने से नगर निकाय को भी राजस्व का फायदा होता है। बेतरीब ढंग से आम सडकों के बीच खड़े होते वाहनों के खिलाफ जुर्माना राशि लेनी चाहिए। बाजारों में सड़क के बीचों बिच व अव्यवस्थित तरीके से खड़े वाहनों पर प्रशासन को जुर्माना लेना या चालान काटना चाहिए। ताकि सड़क अवरुद्द न हो एवं बाजारों में आवागमन की समस्या दूर हो सकती है।       


समाचार